ट्रेन-18 के साथ भारत में शुरू होने जा रहा है हाईस्पीड रेल यात्रा का दौर

नई दिल्ली : देश की सबसे तेज गति से दौड़ने वाली पहली स्वदेशी डिजाइन ट्रेन 18 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 दिसंबर को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। इंजन रहित यह ट्रेन दिल्ली और पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बीच चलेगी। भारत की पहली पूर्ण स्वदेशी और स्वचालित ट्रेन-18 में सफर का आनंद बेहद खास और अलग होगा। रेलवे के लिए ट्रेन-18 गेम चेंजर साबित हो सकती है। पूरी तरह वातानुकूलित यह सेमी हाई स्पीड ट्रेन 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ेगी।

अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित इस ट्रेन के डिब्बों में व्हील चेयर के जगह होगी। इसमें इंजन नहीं होगा। मेट्रो ट्रेनों की तरह दोनों छोर पर ड्राइविंग कैप्स होंगी, जिससे वे दोनों तरफ से चल सकेगी। यह मौजूदा ट्रेनों राजधानी और शताब्दी के बेड़े का स्थान लेगी। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि इससे बेहतर ट्रेन नहीं हो सकती।

बुलेट ट्रेन की तरह दिखने वाली यह ट्रेन राजधानी और शताब्दी से तेज रफ्तार में चलेगी और यात्रा में 10 से 15 फीसद समय कम लगेगा। इसके हर कोच में एयर कंडीशनर और कैमरे लगे होंगे। डिजाइन से लेकर ब्रेक सिस्टम तक इसके निर्माण में आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। 100 करोड़ रुपये की लागत वाली ट्रेन-18 दुनियाभर की आधुनिक और लक्जरी ट्रेनों को मात देगी।

दिल्ली से आगरा के बीच ट्रायल आज 
ट्रेन-18 का गुरुवार को दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से आगरा कैंट के बीच ट्रायल रन होगा। यह अधिकतम 200 किलोमीटर की रफ्तार से चलेगी। बृहस्पतिवार दोपहर 12.15 बजे सफदरजंग रेलवे स्टेशन से ट्रेन रवाना होगी। एक बजे पलवल और दोपहर 2.10 बजे आगरा कैंट पहुंचेगी। वापसी में आगरा कैंट से दोपहर 3.10 बजे रवाना होगी और शाम 5.05 बजे सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर पहुंचेगी।

बुलेट ट्रेन से पहले यह अहम ट्रेन
जाहिर है बुलेट ट्रेन की स्‍पीड का मुकाबला कोई अन्‍य ट्रेनें नहीं कर सकती हैं। लेकिन, ट्रेन 18 तेज चलने वाली ट्रेनों की कड़ी में अहम पड़ाव साबित होगी। यह ट्रेन सेमी हाईस्‍पीड ट्रेन है। हालांकि मौजूदा तेज चलने वाली राजधानी और शताब्‍दी ट्रेनों से यह ज्‍यादा तेज चलेगी। यात्रियों की सुविधा के लिए इसमें अधिक बड़े रैक होने से यात्रियों को ज्‍यादा से ज्‍यादा सामान रखने की सहूलियत दी गई है।

 

पर्यावरण संरक्षण में भी मिलेगी मदद
ट्रेन-18 ट्रेन में 16 कोच हैं। प्रत्येक चार कोच एक सेट में हैं। ट्रेन सेट होने के चलते इस ट्रेन के दोनों ओर इंजन हैं। इंजन भी मेट्रो की तरह छोटे से हिस्से में हैं। ऐसे में इंजन के साथ ही बचे हिस्से में 44 यात्रियों के बैठने की जगह है। इस तरह से इसमें ज्यादा यात्री सफर कर सकेंगे।

 

ये है खास
यह 15 से 20 फीसद ऊर्जा बचाएगी और कार्बन फुटप्रिंट का उत्सर्जन भी कम होगा। अधिकारियों ने बताया कि पहला ट्रेन सेट 18 माह में 100 करोड़ की लागत से तैयार हुआ है। विदेश में इस तरह के ट्रेन लगभग तीन वर्षों में तैयार होती हैं। विदेश से इसे भारत में लाने पर 200 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करने पड़ते।

पूरी तरह वातानुकूलित होगी ट्रेन
यह ट्रेन चेन्नई स्थित इंटीग्रल कोच फैक्टरी (आइसीएफ) में बनाई गई है। इसमें 14 डिब्बे चेयरकार व दो एग्जीक्यूटिव क्लास के होंगे। सभी एक-दूसरे से जुड़े होंगे। एग्जीक्यूटिव क्लास में 56 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी जबकि दूसरे में 18 यात्री बैठ पाएंगे। सभी डिब्बों में आपातकालीन टॉक-बैक यूनिट्स दिए गए हैं ताकि यात्री आपातकाल में ट्रेन के क्रू मेंबर से बात कर सकें। सीसीटीवी लगाए गए हैं ताकि सुरक्षित सफर हो। स्टेनलेस स्टील की बॉडी वाली इस ट्रेन में वाई-फाई, एलईडी लाइट, पैसेंजर इनफर्मेशन सिस्टम और पूरे कोच में दोनों दिशाओं में एक ही बड़ी सी खिड़की होगी। ट्रेन में हलोजन मुक्त रबड़-ऑन-रबड़ का फर्श के साथ ही मॉड्यूलर शौचालयों में एस्थेटिक टच-फ्री बाथरूम होंगे। सामान रखने वाला रैक ज्यादा बड़ा रहेगा, इससे यात्री अधिक सामान आसानी से रख सकेंगे। ट्रेन के डिब्बों में व्हील चेयर के जगह होगी। यह कदम विकलांग यात्रियों को ध्यान में रखकर लिया गया है।

ट्रेन 18 का किराया सामान्य से होगा ज्यादा
उन्होंने बताया कि इस 100 करोड़ रुपये की ट्रेन की निवेश लागत काफी अधिक है, इसलिए ट्रेन 18 का किराया भी सामान्य से ज्यादा होगा। हालांकि, रेलवे अधिकारी ने कहा कि ट्रेन के लॉन्च की तारीख और किराए पर अबतक कोई फैसला नहीं लिया गया है, क्योंकि परीक्षण अभी तक पूरा नहीं हुआ है।

1.70 अरब रुपये की बचत
ट्रेन-18 का निर्माण मेक इन इंडिया मुहिम का सबसे महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट था। विदेशी तकनीक का सहारा लिए बिना भारत में निर्माण की वजह से तकरीबन 1.70 अरब रुपये की बचत हुई है। ट्रेन के लिए सिर्फ ब्रेकिंग सिस्टम, ट्रांसफॉर्मर्स और सीटें विदेश से आयात की गईं।

घटेगी लागत
इंडियन रेलवे के लिए ट्रेन-18 का निर्माण इंटीग्रल कोच फैक्ट्री ने किया है। इसके जनरल मैनेजर सुधांशु मणि के मुताबिक अगली आधुनिक ट्रेन मार्च, 2019 तक तैयार होगी। इस तरह की कई ट्रेनों का निर्माण होने पर लागत घट जाएगी।

 

शताब्दी रूट पर चलेगी
फिलहाल ये शताब्दी व राजधानी रूट के लिए तैयार की गई है और दिल्ली-भोपाल, चेन्नई-बेंगलुरु व मुंबई-अहमदाबाद रूट पर चलेगी। जनवरी, 2019 तक इसके लांच होने की उम्मीद है।

दोगुनी क्षमता
तेज रफ्तार होने की वजह से ट्रेन-18 में शताब्दी और राजधानी की तुलना में समान रूट की यात्रा में भी 10 से 15 फीसद कम समय लगेगा। सामान्य ट्रेन के मुकाबले इसकी एक्सेलेरेशन (गति वृद्धि) क्षमता 50 फीसद अधिक होगी। रफ्तार पर नियंत्रण के लिए स्मार्ट ब्रेक का इस्तेमाल किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सब्सक्राइब ' गंभीर समाचार ' न्यूज़लेटर