मोहित हो गईं बॉक्सिंग क्वीन मैरीकॉम

  

  छह दफे की विश्वचैंपियन मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम नैसर्गिक सुंदरता से
परिपूर्ण काजीरंगा राष्ट्रीय पार्क पहुंचीं तो ठगी की ठगी रह गईं। मणिपुर
ही नहीं, समूचे भारतवर्ष की गौरव की प्रतीक यह सुपर-मोम पहली बार
काजीरंगा पहुंची तो दुनिया में दुर्लभ एक सींग के गैंडों से लेकर कहीं और
नहीं पाए जाने वाले अनगिनत जीव-जंतुओं और वनोपजों की छटा निहारती रह गईं।
ुउतनी देर के लिए बॉक्सिंग रिंग को भूल ही गईं।
मैरीकोम    हालांकि अपनी बेहद निजी यात्रा पर सपरिवार काजीरंगा पहुंचीं थीं।
लेकिन उन्हें वहां देख देश-विदेश से आए पर्यटक भी अभिभूत हो गए। कई
पर्यटकों को कहते सुना गया कि काजीरंगा का यह भ्रमण हमेशा याद रहेगा। तो
कुछ के लिए यह काजीरंगा-टूर एक के साथ एक फ्री जैसा हो गया। ये बात अलग
है कि मैरीकोम की सुरक्षा के लिए तैनात प्रहरियों के कारण चुनिंदा लोग ही
उनके पास पहुंच पाए।

मैरीकॉम  को हाल ही में एआईबीए ने महिला बॉक्सिंग की उनकी कैटेगरी में
सर्वोच्च रैंकिंग दी है। यह मुकाम हासिल करने वाली वे भारत की अकेली
बॉक्सर हैं। उन्हें नई दिल्ली में हुई विश्व बॉक्सिंग चैंपियनशिप में छठी
बार 48 किग्रा वर्ग में स्वर्ण जीतने के बाद यह रैंकिंग मिली है। उन्हें
मणिपुर सरकार ने अपने सर्वोच्च खेल सम्मान मिथोई लेइमा (महान या अप्रतिम
महिला) से भी नवाजा है। फेमिना के ताजा अंक के कवर पर भी उन्हें स्थान
दिया गया है।  
Attachments area

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नवीनतम

सब्सक्राइब ' गंभीर समाचार ' न्यूज़लेटर