लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी कर दिया है। पार्टी ने इसे संकल्प पत्र का नाम दिया है। इसमें देश की आजादी के 75 साल पूरे होने पर फोकस करते हुए 75 संकल्पों को रखा गया है। इसे ‘संकल्पित भारत, सशक्त भारत’ नाम दिया गया है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह समेत पार्टी के शीर्ष नेता मौजूद रहे ।

भाजपा के घोषणा पत्र में बड़े वादे

भाजपा के प्रमुख मुद्दे : यूनिफॉर्म सिविल कोड लाएंगे। सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल दोनों सदनों से पास कराएंगे और उसे लागू करेंगे, लेकिन किसी राज्य की संस्कृति और भाषाई पहचान को बचाएंगे। राम मंदिर के संकल्प को भी हम दोहराते हैं। हमारा प्रयत्न होगा कि राम मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण हो जाए। कश्मीर से अनुच्छेद 35-ए हटाएंगे।

गांव-किसान : 25 लाख करोड़ रुपए ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में हम खर्च करेंगे। किसानों की आय को हम 2022 तक दोगुना करेंगे। 1 लाख तक जो क्रेडिट कार्ड पर ब्याज मिलता है 5 सालों तक उस पर ब्याज 0% होगा। आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों के लिए हम संग्रहालय बनाएंगे।

बुनियादी सुविधा : प्रत्येक परिवार के लिए पक्का मकान, एलपीजी सिलेंडर मुहैया कराएंगे। सभी घरों का 100% विद्युतीकरण करेंगे। हाईवे दोगुने बनाएंगे। रेलवे में 2022 तक जितनी भी रेल पटरियां हैं। उन्हें ब्रॉड गेज में परिवर्तित करेंगे। सभी रेल लाइनों का पूरी तरह विद्युतीकरण करने की कोशिश करेंगे। डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देंगे। सरकारी सेवाओं को डिजिटल बनाएंगे।

शिक्षा : मैनेजमेंट स्कूलों की सीटों की संख्या बढ़ाने की कोशिश करेंगे। इंजीनियरिंग में एक्सिलेंट संस्थाओं में सीटें बढ़ाएंगे, लॉ कॉलेजों में भी हम सीटें बढ़ाएंगे।

स्वास्थ्य : आयुष्मान भारत के तहत 1.25 लाख हेल्थ केयर सेंटर बनाए जाएंगे। गरीबों को दरवाजे पर ही चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के लिए भी हम पूरी कोशिश करेंगे। हम कोशिश करेंगे की मरीजों और डॉक्टरों का अनुपात 1:1400 हो जाए।

सुरक्षा : आतंक के प्रति जीरो टॉलरेंस पॉलिसी रहेगी। भारत में होने वाली घुसपैठ को हम सख्ती से रोकेंगे।

महिला : सेनाओं में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है। इसे अब हर क्षेत्र में बढ़ाएंगे। संविधान संशोधन कर संसद और विधानसभाओं में महिलाओं को 33% आरक्षण देने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

व्यापारी : राष्ट्रीय व्यापार आयोग बनाएंगे जो व्यापारियों और बिजनेसमैन की चिंता करेगा। दुकानदारों को 60 साल की उम्र के बाद पेंशन देंगे। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैंक और बेहतर करेंगे। निर्यात दोगुना करेंगे। उद्योंगों के लिए एकल खिड़की और अनुपालना विभाग बनाने पर काम करेंगे।

मोदी ने कहा- अब देश के सपनों को पूरा करेंगे

संकल्प पत्र की घोषणा के दौरान मोदी ने कहा, ‘‘2014 से 2019 में हमारे कार्यों में सामान्य लोगों की जो जरूरतें हैं उन्हें हमने एड्रेस किया। देश जिन सपनों के साथ चल पड़ा है। जो 1950-60 के कालखंड में होना था वो मुझे 14 से 19 में करना पड़ा। पहले हमने जरूरतों को पूरा करने के लिए योजनाएं चलाईं और अब देश के सपनों को पूरा करने के लिए काम करेंगे। गरीबी से लड़ना है तो दिल्ली में एसी में बैठे लोग गरीबी को परास्त नहीं कर सकते। मैं भी एसी में बैठता हूं इसलिए ऐसा कोई दावा नहीं कर सकता। गरीब ही गरीबी को खत्म कर सकता है।’’

मोदी सरकार के पांच साल बेमिसाल – अमित शाह

– बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा, हम 2014 में सरकार के साथ 2014 से 2019 तक देश कैसे चलेगा, उसका विजन लेकर आए थे। देश में करीब 30 साल बाद पूर्ण बहुमत की सरकार बनी थी। पूर्ण बहुमत होने के बावजूद हमने एनडीए की सरकार बनाई और मोदी जी के नेतृत्व सुचारू रूप से उसे चलाया। ये पांच साल स्वर्ण अक्षर से लिखे जाएंगे। इन पांच सालों में मोदी के नेतृत्व में सरकार ने गरीबों के लिए काम किया है। मोदी सरकार को अपनी योजना चलाने में जमीनी स्तर तक सफलता मिली है।

– मोदी सरकार के दौर में भ्रष्टाचार कम हुआ। विश्व रैंकिंग में हम ऊपर चढ़े हैं। भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई हमने की है। सर्जिकल स्ट्राइक के माध्यम से आतंकवाद का खात्मा किया है। इससे दुनियाभर में संदेश गया है कि भारत अब कमजोर देश नहीं है। सिर्फ पांच साल में दुनिया में भारत का डंका बजा है। दुनिया के हर मसले पर हर कोई हमारी राय जानने को लेकर उत्सुक रहता है।

– बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि प्रमाणित सरकार कैसी हो सकती है। पारदर्शी सरकार कैसी हो सकती है, इस सरकार ने ये काम करने का प्रयास किया है। आज भारत एक महाशक्ति बनकर उभरा है। इन पांच सालों में मोदी सरकार ने 50 ऐसे कदम उठाए हैं, जो इतिहास बन गए। 2014 का जनादेश की बात करें तो हमें कांग्रेस शासन के बारे में भी सोचना चाहिए। क्योंकि जनता को उनके शासन में निराशा हाथ लगी थी। लेकिन मोदी सरकार ने किसी को निराश नहीं होने दिया। लोगों को निराशा आशा में बदली है। अब लोग अधिकार से कहते हैं कि ये काम भी हाेना चाहिए। वो काम भी होना चाहिए। हम सवा सौर करोड़ देशवासियों की अपेक्षाओं पर खरे उतरने के लिए प्रतिबद्ध है। कश्मीर के समाधान अपेक्षा है। मैं मानता हूं कि ये संकल्प पत्र आपकी अपेक्षाओं पर खरा उतरेगा।

ये घोषणा पत्र नहीं, बल्कि एक विजन डॉक्युमेंट है- राजनाथ सिंह

संकल्प पत्र पर बोलते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि इस संकल्प पत्र के माध्यम से हम 130 करोड़ भारतीय के सामने विजन डॉक्युमेंट को प्रस्तुत कर रहे हैं। इसमें देश के सभी वर्गों, सभी लोगों की राय आधार पर ये दस्तावेज तैयार किया है।

– हमारे पीएम और सरकार में जनता का विश्वास बढ़ा है। विकास का चक्का अब तेजी से चलना आरंभ हुआ है। देश की बाह्य और आंतरिक सुरक्षा करने में हमने कामयाबी हासिल की है। ये सब करते हुए हमने जवाबदेही वाली सरकार बनाई है। जनभागीदारी को पूरी तरह से सुनिश्चित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सब्सक्राइब ' गंभीर समाचार ' न्यूज़लेटर